मोइरांग में आईएनए स्मारक आधुनिक भारत का एक तीर्थस्थल है: दत्तात्रेय होसबोले

मोइरांग में आईएनए स्मारक आधुनिक भारत का एक तीर्थस्थल है: दत्तात्रेय होसबोले

इम्फाल, 23 ​​जनवरी, 2023: पराक्रम दिवस के अवसर पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने कहा कि मणिपुर के मोइरांग में स्थित आईएनए (आजाद हिंद फौज) स्मारक आधुनिक भारत का तीर्थस्थल है।

“भारत माता के महान सपूत नेताजी सुभाष चंद्र बोस को उनकी जयंती पर मेरी विनम्र श्रद्धांजलि। उनकी अदम्य भावना और अविस्मरणीय कार्य सभी भारतीयों के लिए सदैव प्रेरणादायी है। यह स्मारक (मोइरांग) आधुनिक भारत का एक तीर्थस्थल है,” होसबोले ने सोमवार सुबह आईएनए मेमोरियल, मोइरांग, की अपनी यात्रा के दौरान कहा।

आरएसएस के सरकार्यवाह, जो मणिपुर में चार दिवसीय दौरे पर हैं, आईएनए स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित करके पराक्रम दिवस के राष्ट्रव्यापी उत्सव में शामिल हुए, जहां नेताजी ने 1944 में पहली बार भारत की धरती पर स्वतंत्र भारत का झंडा फहराया था।

“INA भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा। INA के महान बलिदान और अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध के कारण ही करोड़ों भारतीय ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ आवाज उठाने और स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए उत्साहित हुए। होसबोले ने कहा, मुंबई का नौसेना विद्रोह आईएनए के आंदोलन और सैकड़ों और हजारों पुरुषों और महिलाओं द्वारा किए गए बलिदानों से प्रेरित था।

उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में मणिपुर और पूर्वोत्तर के लोगों के बलिदान की भी प्रशंसा की। INA के योगदान ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम को उसके अंत तक यानी स्वंतत्रता प्राप्ति तक पहुँचा दिया।

दत्तात्रेय होसबोले ने राजन सिंह, असम क्षेत्र कार्यवाह, उल्हास कुलकर्णी, असम क्षेत्र प्रचारक, एमएम अशोकन, असम क्षेत्र प्रचारक प्रमुख के साथ आईएनए मुख्यालय और संग्रहालय का भी दौरा किया। अपनी यात्रा के दौरान होसबोले ने मोइरांग में स्थानीय गणमान्य लोगों और सामाजिक कार्यकर्ताओं से भी बातचीत की।